विदेशी मुद्रा वीडियो

ट्रेडिंग शैली

ट्रेडिंग शैली

Intraday trading tips in hindi : इंट्राडे ट्रेडिंग क्या है?

Hello friends, कैसे हैं आप? आशा करता हूँ आप सभी अच्छे होंगे. Aryavarta Talk – hindi me jaankari में आपका स्वागत है. यह वेबसाइट आप लोगों जैसे जिज्ञाषु readers के लिए ही समर्पित है, जहाँ पर आप रोजाना कुछ नया सीखते हैं. आज का हमारा विषय है Intraday trading tips in hindi : इंट्राडे ट्रेडिंग क्या है?

आपलोगों ने शेयर मार्केट के बारे में जरुर सुना होगा. शेयर मार्केट में पैसा कमाने के लिए लोगों को लम्बा इन्तिज़ार करना पड़ता है. महीनो तक invest करना पड़ता है. लोगों के बीच यह अवधारणा बनी हुई है कि पैसा कमाने के लिए लम्बा इंतिजार करना पड़ता है. किन्तु share market में कम समय में भी कमाई करने का option है.

Intraday trading से हो सकती है एक ही दिन में कमाई, समझिये हमारे साथ क्या है इंट्रा डे ट्रेडिंग का पूरा process. आप हर रोज शेयर खरीद या बेंचकर कमा सकते हैं – पैसे.

Table of Contents

Intraday trading tips in Hindi

किसी कंपनी के शेयर को एक ही दिन में खरीद कर बेच देना Intraday trading कहलाता है. इस प्रक्रिया में सुबह पैसा लगाकर शाम को कमाई की जा सकती है. ऐसा माना जाता है कि यहाँ मुनाफा त्वरित और आसानी से कमाया जा सकता है. इंट्राडे ट्रेडिंग में जिस दिन आपने शेयर ख़रीदा उसी दिन आपको वह शेयर market बंद होने से पहले बेचना होता है या तकनिकी भाषा में कहें तो स्क्वायर ऑफ करना होता है.

Intraday trading का उद्देश्य निवेश करना नहीं होता है बल्कि लाभ कमाना होता है. यहाँ शेयर्स खरीदने के लिए आपके पास ट्रेडिंग अकाउंट होना चाहिए. एक बात आपको ज्ञात होनी चाहिए कि शेयर्स बाज़ार में निवेश करने के लिए Demat account के साथ – साथ ट्रेडिंग अकाउंट भी होना जरुरी है. ट्रेडिंग अकाउंट ब्रोकर के जरिये खोला जाता है.

Intraday trading जोखिम भरा होता है ऐसा इसलिए क्योंकि आपके पास समय नहीं होता है. यहाँ हिसाब उसी दिन बराबर करना होता है चाहे फ़ायदा हो या नुकसान.

लाभ कैसे कमाया जाता है?

इंट्राडे ट्रेडिंग में आप शेयर खरीदकर उसी दिन जब शेयर का भाव ऊपर हो उस समय में बेंचकर लाभ कमा सकते हैं. किन्तु यहाँ जोखिम इस बात की होती है कि शेयर का भाव उसी दिन बढ़ेंगे या घटेंगे यह कोई नहीं कह सकता है. यहाँ अनुभव काम आती है. जब कोई निवेशक यहाँ निवेश करता है तो वह बाज़ार के उतार चढ़ाव पर हर वक़्त नज़र बनाये रखता है.

तकनिकी विश्लेषण :

कहते हैं लालच बुरी बला है यह बात बिल्कुल यहाँ सटीक बैठती है. ज्यादातर निवेशक यहाँ लालच के कारण नुकसान उठाते हैं. यहाँ लाभ कमाने के लिए एक निवेशक को बाज़ार का तकनिकी ज्ञान के साथ – साथ बहुत सारे रिसर्च करने पड़ते हैं. इंट्राडे ट्रेडर्स और नियमित निवेशक में अंतर होता है.

  • सबसे पहले आप यह सुनिश्चित कर लें कि आप क्या करने जा रहे हैं क्योंकि यह जितना आसन लगता है उतना है नहीं.
  • इसके दोनों सकारात्मक और नकारात्मक पहलु होते हैं.
  • शुरुआत करने से पहले प्लान बनाना आवश्यक है.
  • लाभ और हानि दोनों स्थितियों को ट्रैक करना सीखें.
  • ट्रेडिंग शैली
  • ज्यादा liquidity वाले शेयर्स पर ध्यान दें ताकि किसी भी वक़्त उसे खरीदने और बेंचने के लिए इन्तिज़ार नहीं करना पड़े. ऐसे शेयर्स उपयुक्त मात्रा में मौजूद होते हैं.
  • वर्तमान बाज़ार के उतार – चढ़ाव के साथ आगे बढ़ें.
  • मंदी के समय में उन shares पर नज़र रखें जिन शेयर्स को निचे जाने की संभावना हो.
  • बाज़ार की चाल पकड़ने की कला सीखें इसके उतार और चढ़ाव से सीधे टक्कर न लें तो बेहतर होगा.
  • कीमतों की movement पर नज़र बनाये रखने के लिए इंट्राडे ट्रेडर्स के द्वारा चार्ट का इस्तेमाल किया जाता है. यह चार्ट आमतौर पर तकनिकी विश्लेषण करने में ट्रेडर्स की मदद करता है.
  • जोखिम को ध्यान में रखकर कूल व्यापारिक पूंजी का 2 या 3 प्रतिशत से ज्यादा जोखिम न उठायें. इसके लिए Stop Loss का उपयोग करें.
  • इंट्राडे ट्रेडिंग का समय प्रातः 9:15 से शाम 3:30 बजे तक होती है.
  • जहाँ तक हो सके यहाँ trading पुख्ता जानकारी के आधार पर ही करें.
  • शुरुआत में trading को सिमित रखें, धैर्य से काम लें, भावनाओं में ना बहें.
  • दुनिया की ख़बरों से अवगत रहें, सीखते रहें और इसके बुनियादी नियम की ओर विशेष ध्यान दें.

Conclusion : निष्कर्ष

सारी स्तिथियों का जायजा लेने के पश्चात हम यह कह सकते हैं कि intraday trading एक सट्टे की तरह ही है. बाज़ार का रूझान कब आपके खिलाफ हो जाएगी और कब आपके साथ होगी ये बात कोई नहीं बता सकता है. इसमें लाभ कमाने का कोई पक्का फार्मूला मौजूद नहीं है. इसके जोखिम को ध्यान में रखते हुए हमेशा उसी धन का उपयोग करें जिसे खोने के लिए आप तैयार हैं.

हर दिन आपको एक अलग ट्रेडिंग शैली या रणनीति के साथ बाज़ार में उतरना होगा. लोगों के सुझाव, इसमें उपयोग होनेवाली software, तकनिकी संकेतक केवल मार्गदर्शन के लिए हैं हो सकता है परिणाम इसके विपरीत भी हो सकते हैं. किसी दिन आपको profit होगा तो किसी दिन loss भी हो सकता है.

यदि आप बाज़ार में उतर गये हैं तो किसी को दोष ना दें. यह आपका चुनाव है, बस सीखते रहें, अनुभव लेते रहें, शेयर बाज़ार में टिके रहने का यही एक बेस्ट formula है. बाज़ार का क्षेत्र बहुत बड़ा है यहाँ कब बाज़ी पलटेगी आपको शत प्रतिशत कोई नहीं बता सकता है.

अंत में मेरी राय

यदि हो सके तो लम्बे समय के लिए invest करें. इसमें return कम मिलता है लेकिन जोखिम भी कम होता है. वास्तव में share market उनके लिए है जिन्हें इस field में अच्छी जानकारी है और intraday trading के लिए तो यह बहुत जरुरी है.

मैं इस हिंदी ब्लॉग का संस्थापक हूँ जहाँ मैं नियमित रूप से अपने पाठकों के लिए उपयोगी जानकारी प्रस्तुत करता हूँ. मैं अपनी शिक्षा की बात करूँ तो मैंने Accounts Hons. (B.Com) किया हुआ है और मैं पेशे से एक Accountant भी रहा हूँ.

क्‍या आप ट्रेडिंग और निवेश के बीच अंतर जानते हैं

ट्रेडिंग और निवेश

ट्रेंडिंग और निवेश दो अलग-अलग शब्द है, जिनका उपयोग अक्सर एक दूसरे के स्थान पर किया जाता है, परंतु इन दोनों शब्दों का अर्थ अलग-अलग होता है, तो आज हम आपको इन दोनों शब्दों के बीच का अंतर बताएंगे साथ ही इन दोनों से क्या फायदे होते हैं, और क्या नुकसान होते हैं, इसके बारे में भी विस्तार से बताएंगे:-

ट्रेडिंग क्या है?

ट्रेडिंग में अल्पकालिक या मध्यम अवधि के लाभ कमाने के लिए शेयर स्टॉक और अन्य सिक्योरिटीज को खरीदना और बेचना आदि शामिल होता है. ट्रेडिंग उन लोगों के लिए सबसे उपयुक्त होती है, जो सक्रिय रूप से अपना पोर्टफोलियो मैनेज कर सकते हैं, और जिन्हें मार्केटिंग का थोड़ा अनुभव होता है.

निवेश क्या है?

निवेश लंबे क्षितिज पर शेयर्स और अन्य सिक्‍योरिटीज़ को खरीदने और बेचने पर आधारित होता है. यह उन लोगों के लिए आदर्श होता है, जिनके पास कोई काम नहीं होता और ज्यादा खाली समय रहता है. साथ ही वह बिना किसी प्रकार के जोखिम के अपने फंड को निष्क्रिय रूप से प्रबंधित करना पसंद करते हो.

ट्रेडिंग और निवेश के बीच अंतर

समय अवधि

ट्रेडिंग और निवेश के बीच मुख्य अंतर समय अवधि का होता है. ट्रेडिंग में निवेश की तुलना में समय अवधि कम होती है. साथ ही हम आपको बता दें कि ट्रेडिंग कई प्रकार की होती हैं, और अधिक से अधिक दो-तीन सप्ताह के लिए अपनी स्थित को खुला रखती हैं.

जबकि निवेश में ऐसा कुछ नहीं होता निवेश उन लोगों द्वारा किया जाता है, जो अपनी सिक्‍योरिटीज़ को अधिक वर्षो तक करना चाहते है.

जोखिम का स्‍तर

जोखिम का स्तर एक ऐसा अंतर है, जो ट्रेडिंग और निवेश में पैसे के प्रबंधन की शैली को निर्धारित करने में आपकी सहायता कर सकता है, ट्रेडिंग में उच्च जोखिम सम्मिलित होता है क्योंकि यह अल्पकालिक होता है, और अल्पकालिक के लिए बाजार में गिरावट आपकी पूंजी को डूबा सकती है.

और अगर हम बात करें निवेश की तो निवेश कम जोखिम भरा हुआ होता है, और इसके अतिरिक्त अल्पकालिक प्रवृत्ति परिवर्तन शायद ही आपके दीर्घकालिक निवेश को प्रभावित करते हैं.

रिटर्न

ट्रेडिंग में तुरंत रिटर्न सम्मिलित होता है, जैसे ही आप स्थित में अंदर और बाहर होते हैं, ठीक उसी प्रकार आप मार्केट में अधिक महत्‍वपूर्ण उतार-चढ़ाव से दूर हो जाते हैं, और अगर हम बात करें, निवेश की तो निवेश बेहतर रिटर्न दे सकता है क्योंकि आप लंबी अवधि के लिए निवेशित रहते हैं, और बाजार में उतार-चढ़ाव से अधिक लाभ प्राप्त करते हैं.

शामिल विश्‍लेषण

ट्रेडिंग और निवेश में शामिल विश्लेषण एक मुख्य अंतर होता है, ट्रेडर्स अक्सर तकनीकी विश्लेषण और संकेतकों पर आधारित होते हैं, जबकि निवेशक निर्णय लेने के लिए मूलभूत विश्लेषण का उपयोग करते हैं.

टेक्निकल ट्रेडिंग चार्ट पैटर्न और विभिन्न मार्केट एनालिसिस टूल का लाभ उठाते हैं, जो उन्हें तुरंत मार्केट की गतिविधियों को कैप्‍चर करने और सिक्‍योरिटीज़ को खरीदने और बेचने में सहायता करते हैं, निवेशक स्टॉक को खरीदने और बेचने का निर्णय लेने के लिए कम्पनी के बुनियादी प्रदर्शन बैलेंस शीट्स, एसेट्स और अन्य बुनियादी बातों का उपयोग करते हैं.

ट्रेडिंग के फायदे

ट्रेडिंग के अंदर कम समय अंतराल सम्मिलित होता है.

ट्रेडिंग अल्पकालिक में अच्छे रिटर्न पाने की क्षमता प्रदान करता है.

ट्रेडिंग कम पूंजी के साथ कई ट्रेड करने में मदद करता है.

ट्रेडिंग के नुकसान

ट्रेडिंग उच्च जोखिम भरा हुआ होता है.

ट्रेडिंग में आप मार्केट के बड़े उतार-चढ़ाव को कैप्‍चर नहीं कर सकते हैं.

ट्रेडिंग में आपको अच्छा रिटर्न पाने के लिए कौशल और गहन अभ्यास करने की आवश्यकता होती है.

निवेश के फायदे

निवेश के अंतर्गत आपको धैर्य के साथ पीढ़ीगत धन बनाने में सहायता करता है.

निवेश बाजार के बड़े उतार-चढ़ाव का लाभ उठाने में सक्षम बनाता है.

निवेश के अंतर्गत आपको अत्यधिक गहन अभ्यास, और अधिक कौशल की आवश्यकता नहीं होती है .

निवेश के नुकसान

निवेश के अंतर्गत अच्छा रिटर्न प्राप्त करने के लिए महत्वपूर्ण निवेश करने की आवश्यकता होती है.

निवेश के अंतर्गत पैसे को बढ़ाने के लिए आपको अत्यधिक धैर्य रखने की आवश्यकता होती है.

निवेश में छोटे पूंजी के साथ रिटर्न शायद अच्छा नहीं हो सकता है, परंतु निष्क्रिय आय पाने के लिए आपको काफी मात्रा में धन निवेश करने की आवश्यकता होती है.

आप भी करना चाहते है ऑनलाइन स्टॉक ट्रेडिंग? तो यहां जानिए Share Market Trading Kya Hai?

आप भी करना चाहते है ऑनलाइन स्टॉक ट्रेडिंग? तो यहां जानिए Share Market Trading Kya Hai?

Share Market Trading: शेयर का बाजार इतना लुभावना है कि यहां हर कोई खींचा चला आता है। लेकिन अगर आप Stock Trading की दुनिया मे नए है तो आपको यह जरूर जानना चाहिए कि Share Market Trading Kya Hai?, यह कैसे काम करती है? (How does share trading work?) और शेयर ट्रेडिंग कैसे करें? (How to do share trading?)

Share Market Trading in Hindi: स्टॉक ट्रेडिंग (Stock Trading) या शेयर ट्रेडिंग (Share Trading) जोखिम उठाने वाले इन्वेस्टर्स के बीच काफी लोकप्रिय है। यह धन सृजन में सहायता करता है और तरलता (Liquidity) की सुविधा भी देता है। कई निवेशक यह जानते है कि स्टॉक ट्रेडिंग कैसे काम करता है। लेकिन जो लोग निवेश में नए आये है, उनके लिए ट्रेडिंग को समझना थोड़ा मुश्किल होता है। तो आइए अपनी मूल बातों पर वापस आते है और इस लेख में समझते है कि Share Market Trading Kya Hai? (What is Share Market Trading in Hindi) और इसके प्रकार (Types of Share Trading in Hindi) क्या हैं।

Share Market Trading Kya Hai? | What is Share Market Trading in Hindi

Share market trading मान्यता प्राप्त स्टॉक एक्सचेंजों (Stock Exchange) पर लिस्टेड शेयरों को खरीदने और बेचने की एक गतिविधि है। एक व्यापारी (Trader) के रूप में आप शेयर मार्केट से शेयर खरीद (Buy) सकते हैं और लाभ कमाने या अपने नुकसान को कम करने के लिए मार्केट सेशन के दौरान किसी भी समय अपने खरीदे हुए शेयरों को बेच (Sell) सकते हैं।

Trading को आसान शब्दों में व्याख्या करें तो हिंदी में इसे व्यापार कहा जाता है। यानी कि किसी वस्तु या सेवा का आदान प्रदान करके मुनाफा कमाना। शेयर ट्रेडिंग का मतलब यहां शायरों के व्यापार से सबंधित है। स्टॉक मार्केट में वस्तु की जगह कंपनियों के शेयर कि खरीद और बिक्री करके मुनाफा कमाया जाता है। ट्रेडिंग कि समय अवधि 1 साल की होती है। मतलब यह हुआ कि 1 साल के अंदर शेयर को खरीदना और बेचना है। अगर एक साल के बाद शेयर को बेचते हैं तो यह निवेश कहलाता है। यह एक तरह का ऑनलाइन पर आधारित बिजनेस होता है।

भारत में मुख्य रूप से दो प्रमुख एक्सचेंजों - बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE) और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) में लिस्टेड शेयरों में ट्रेडिंग होता है। हालांकि अन्य एक्सचेंज भी हैं, लेकिन ये दोनों मुख्य हैं जहां अधिकांश कार्रवाई होती है।

शेयर ट्रेडिंग कैसे काम करती है? | How does share trading work?

जब कंपनियां स्टॉक जारी करती हैं, तो इच्छुक निवेशक ऐसे शेयरों की सदस्यता लेते हैं। स्टॉक अलॉट होने के बाद कंपनी Stock Exchange में लिस्टेड हो जाती है जहां स्टॉक की कीमत मांग और आपूर्ति के अनुसार चलती है। अगर स्टॉक के इच्छुक खरीदार हैं और आपूर्ति सीमित है तो मांग बढ़ जाती है जो स्टॉक के मार्केट वैल्यू को बढ़ा देती है।

दूसरी ओर अगर निवेशक स्टॉक बेचना चाहते हैं और सीमित मांग है, तो आपूर्ति बढ़ जाती है जो कीमत को नीचे धकेलती है। यह मांग और आपूर्ति लगातार चलती रहती है और लगातार बदल रही है। जैसे शेयर की कीमतें लगातार ऊपर और नीचे चलती रहती हैं।

भारत में Share Market सुबह 9:15 बजे खुलता है और दोपहर 3:30 बजे बंद हो जाता है। इस टाइम विंडो के अंदर ही Share Trading करने की अनुमति होती है। Stock Market सोमवार से शुक्रवार तक काम करता है और इसमें अलग से छुट्टियां भी शामिल होती हैं।

शेयर ट्रेडिंग के प्रकार | Types of share trading in Hindi

Share Market Trading को चार भागों में विभाजित किया गया है।

1. इंट्राडे ट्रेडिंग (Intraday Trading)

Intraday Trading का अर्थ है एक ही दिन के अंदर स्टॉक खरीदना और बेचना। अगर आप सुबह 9:15 बजे बाजार खुलने के बाद स्टॉक खरीदते हैं और फिर 3:30 बजे बाजार बंद होने से पहले स्टॉक को बेच देते हैं तो इसे Intraday Trading कहा जाता है। इंट्राडे ट्रेडिंग में काफी मात्रा में जोखिम शामिल होता है क्योंकि आप कम कीमत पर स्टॉक खरीदने की कोशिश ट्रेडिंग शैली करते हैं और उसी दिन जब कीमत बढ़ जाती है तो उसे आप बेचने की कोशिश करते है। Intraday Trading उन एक्टिव ट्रेडर्स के लिए है जो कीमतों में बदलाव के साथ ही मुनाफा कमाने के इरादे से मिनटों तक बाजार की गतिविधियों की ट्रेडिंग शैली निगरानी करते हैं।

2. डिलीवरी ट्रेडिंग (Delivery Trading)

डिलीवरी ट्रेडिंग (Delivery Trading) लंबी अवधि के निवेशकों के लिए है जो बाय एंड होल्ड स्ट्रेटेजी का पालन करते हैं। Delivery Trading के तहत आप एक स्टॉक खरीदते हैं और फिर उसे बेचने से पहले कुछ समय के लिए होल्ड करते हैं। आपकी रणनीति के आधार पर होल्डिंग पीरियड एक दिन, सप्ताह, महीना या साल भी हो सकता है। इस प्रकार की ट्रेडिंग Intraday Trading की तुलना में कम जोखिम भरी होती है क्योंकि यह आपको बेचने से पहले स्टॉक की कीमतों के बढ़ने का इंतजार करने की अनुमति देती है ताकि आप लाभ कमा सकें।

3. स्विंग ट्रेडिंग (Swing Trading)

स्विंग ट्रेडिंग (Swing Trading) डिलीवरी ट्रेडिंग (Delivery Trading) की तरह है लेकिन कम समय के साथ। इस प्रकार के ट्रेडिंग के तहत आप लिमिटेड पीरियड के लिए स्टॉक खरीदकर रखते हैं। आमतौर पर 5-7 दिन, क्योंकि आप उम्मीद करते हैं स्टॉक की कीमत अल्पावधि में एक विशेष स्तर पर जाएगी। शेयरों के अल्पकालिक मूल्य आंदोलन से मुनाफा कमाने के लिए Swing Trading की जाती है।

4. शार्ट सेल्लिंग (Short Selling)

शॉर्ट सेलिंग (Short Selling) एक अलग प्रकार की ट्रेडिंग स्ट्रेटेजी है जिसमें आप ऐसे को स्टॉक बेचते हैं जो आपके पास नहीं हैं। आप बाजार से स्टॉक उधार लेते हैं और जब आप कीमतों ट्रेडिंग शैली में गिरावट की उम्मीद करते हैं तो उन्हें बेचते है। फिर कीमतों में गिरावट के बाद आप स्टॉक को कम दर पर वापस खरीद लेते हैं, जिससे ट्रेडिंग पर लाभ होता है।

उदाहरण के लिए, मान लीजिए कि कोई स्टॉक 50 रुपये पर कारोबार कर रहा है और आप उम्मीद करते हैं कि कीमत 40 रुपये तक गिर जाएगी। इसलिए आप पहले 1000 यूनिट्स के लिए सेल आर्डर देते हैं, जिससे 50,000 रुपये कमाते हैं। इसके बाद मान लें कि शेयर की कीमत 42 रुपये तक गिर जाती है और आप 42,000 रुपये का भुगतान करके 1000 यूनिट्स वापस खरीदते हैं। तो इस ट्रेडिंग में आप 8000 रुपये का लाभ कमाते हैं। इस प्रकार के ट्रेडिंग के तहत आपको उसी ट्रेडिंग वाले दिन के अंदर अपने पोजीशन को समाप्त करना होगा। Short Selling भी बहुत जोखिम भरा है क्योंकि कीमतें आपके अनुमान से विपरीत दिशा में बढ़ सकती हैं।

शेयर ट्रेडिंग कैसे करें? | How to do share trading?

भारत में ट्रेडिंग डिजिटल हो गई है। आप अपने कंप्यूटर या स्मार्टफोन के माध्यम से शेयर और अन्य लिस्टेड सिक्योरिटीज को ऑनलाइन खरीद और बेच सकते हैं। हालांकि Share Trading में आने के लिए आपको एक ब्रोकर की जरूरत पड़ेगी। इसके बाद आपको अपनी ट्रेडिंग यात्रा शुरू करने के लिए एक डीमैट खाता, ट्रेडिंग एकाउंट और एक सेविंग एकाउंट चाहिए, जो सभी एक साथ जुड़े हुए हों।

ट्रेडिंग करते समय ध्यान रखने योग्य बातें | Things to keep in mind when trading

इक्विटी में ट्रेडिंग के लिए आपको सतर्क रहने की जरूरत है। भारत में व्यापार करने से पहले आपको कुछ चीजें ध्यान में रखनी चाहिए-

  • Share Trading एक जोखिम भरा मामला है। बाजार काफी अस्थिर हो सकता है और इसलिए Trading शुरू करने से पहले आपको हेल्थी रिस्क लेने की जरूरत है।
  • अपने मुनाफे को सबसे अधिक करने के लिए लंबी अवधि के क्षितिज के साथ प्रयास करें और निवेश करें।
  • बाजार में गिरावट आने पर धैर्य रखें और घबराएं नहीं। बाजार अंततः स्थिर हो जाएगा और लंबी अवधि में आपके निवेश पर रिटर्न अर्जित करने में आपकी मदद करेगा।
  • जोखिमों को कम करने के लिए अलग-अलग सेगमेंट के शेयरों के साथ अपने पोर्टफोलियो में विविधता लाएं।
  • अपनी होल्डिंग्स की नियमित रूप से समीक्षा करें और यह जानने के लिए बाजार का अध्ययन करें कि बाजार में कब प्रवेश करना है और कब बाहर निकलना है।

Share Market Trading लाभदायक हो सकती है लेकिन इसमें शामिल जोखिमों को जानें। Share Trading Kaise Kare और बाजार के विभिन्न पहलुओं को समझें। इसके अलावा अपनी निवेश रणनीति और ट्रेडिंग शैली चुनें और फिर एक विविध पोर्टफोलियो बनाएं। अपनी ट्रेडिंग यात्रा के तकनीकी पहलुओं को जानें और अपने पोर्टफोलियो को समय के साथ बढ़ते हुए देखने के लिए अपने निवेश की निगरानी करें।

चलते-फिरते ट्रेड करने के लिए ट्रेडिंग ऐप का होना क्यों ज़रूरी है?

चलते-फिरते ट्रेड करने के लिए ट्रेडिंग ऐप का होना क्यों ज़रूरी है?

नई दिल्ली। सुविधाजनक व्यापार एक ऐसी चीज है जिसका दुनिया भर में लगभग हर व्यापारी अनुभव करना चाहता है। हालांकि ऑनलाइन ट्रेडिंग ने इस समस्या को लगभग हल कर दिया है, एक ट्रेडिंग ऐप आदर्श रूप से इस समाधान को और बेहतर बनाता है। अधिकतर अनुभवी ट्रेडर ऐसे ऐप्स का उपयोग कंप्यूटर के पास रहने के बिना चलते-फिरते ट्रेड करने के लिए करते हैं।

MT4 जैसे मोबाइल ट्रेडिंग ऐप Elland Road पर उपलब्ध हैं, जो एक स्थिर इंटरनेट कनेक्शन और एक ट्रेडिंग खाते का उपयोग करके कहीं से भी व्यापार करना संभव बनाता है।

ट्रेडिंग ऐप का उपयोग करने के बारे में कई गलतफहमियां हैं जो नए लोगों को इसे आज़माने से हतोत्साहित करती हैं। यदि आप अपने आप को इस उलझन में पाते हैं कि आपको ट्रेडिंग ऐप्स को मौका देना चाहिए या नहीं, तो निम्नलिखित विवरण जानने से मदद मिल सकती है। एक बार जब आप एक ऐप का उपयोग करके चलते-फिरते ट्रेडिंग के लाभों को समझ जाते हैं, तो आप लाभदायक अवसरों को प्राप्त कर सकते हैं।

⦁ आसान लेआउट और UI
एक गुणवत्ता-निर्मित ट्रेडिंग ऐप का उपयोग करने के बारे में सबसे अच्छी बात उपयोग की सुविधा है। आजकल, हमारे पास मौसम की जांच करने जैसे सबसे बुनियादी काम भी करने के लिए एक ऐप है। ऐप्स पर हमारी निर्भरता आंशिक रूप से बढ़ी है क्योंकि वे एक सहज यूआई के साथ बनाए गए हैं। यह ट्रेडिंग ऐप के लिए भी सही है जो ट्रेडिंग शुरू करने के लिए कुछ सरल कदम प्रदान करता है।

⦁ संपूर्ण वेब कार्यक्षमता
इंटरनेट ट्रेडिंग शुरू करने के लिए उपयोगकर्ताओं और ब्रोकर प्लेटफॉर्म के बीच एक सेतु बनाने में मदद करता है। इस कारण से, इंटरनेट कनेक्टिविटी को ट्रेडिंग ऐप्स का एक महत्वपूर्ण पहलू माना जाता है। कुछ व्यापारिक ऐप जैसे Elland Road अपने उपयोगकर्ताओं को डेस्कटॉप संस्करणों तक सीमित करने के बजाय वेब कार्यक्षमता प्रदान करते हैं। आदर्श ट्रेडिंग ऐप में सुविधा के लिए मोबाइल संस्करण में भी उनकी कार्यक्षमता शामिल है।

a

⦁ इन-बिल्ट तकनीकी विशेषताएं
नए और अनुभवी व्यापारी अक्सर सही समय पर किसी व्यापार को खोलने या बंद करने के तकनीकी पहलुओं के साथ संघर्ष करते हैं। तकनीकी संकेतकों को समझकर सही व्यापारिक निर्णय लेने के लिए बहुत सारे कौशल और काफी अनुभव की आवश्यकता होती है। लेकिन ऐसे ट्रेडिंग ऐप हैं जो तकनीक के जरिए इसे आसान बनाते हैं। नुकसान से बचने के लिए उपयोगकर्ताओं को समय पर ट्रेडिंग पोजीशन खोलने या बंद करने में मदद मिलती है।

⦁ वित्तीय संपत्तियों का विशाल विकल्प
ट्रेडिंग ऐप्स न केवल आपको कहीं से भी चलते-फिरते व्यापार करने का एक तरीका प्रदान करते हैं। ये विभिन्न वित्तीय अवसरों के साथ भी आते हैं। उदाहरण के लिए, एलैंड रोड एक लोकप्रिय ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म है जो विदेशी मुद्रा, स्टॉक, कमोडिटीज, इंडेक्स आदि सहित ट्रेडिंग के लिए प्रमुख सीएफडी प्रदान करता है। यह न केवल एक विविध ट्रेडिंग पोर्टफोलियो की ओर जाता है बल्कि एक लाभदायक परिणाम भी देता है।

⦁ MT4 के साथ ट्रेडिंग रणनीतियाँ
यह सामान्य ज्ञान है कि अपनी ट्रेडिंग यात्रा शुरू करना आसान है, लेकिन ट्रेडिंग रणनीतियों को सीखने में वर्षों लग जाते हैं। ट्रेडिंग रणनीतियाँ आपको अप्रत्याशित नुकसान से बचा सकती हैं। Elland Road जैसे ट्रेडिंग ऐप अपने उपयोगकर्ताओं के लिए MT4 ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म का उपयोग करके विभिन्न ट्रेडिंग रणनीतियों को समझना और उनका उपयोग करना आसान बनाते हैं।

निष्कर्ष
उपरोक्त के आलोक में, यदि आप चलते-फिरते व्यापार करना चाहते हैं, तो ऐसा करने का सबसे अच्छा तरीका एक विश्वसनीय ट्रेडिंग ऐप है।

फेड बैठक से पहले वॉल स्ट्रीट चॉपी ट्रेडिंग में अधिक बंद हुआ

फेड बैठक से पहले वॉल स्ट्रीट चॉपी ट्रेडिंग में अधिक बंद हुआ

(रायटर) – वॉल स्ट्रीट के मुख्य सूचकांक सोमवार को उच्च स्तर पर बंद होने के लिए पूरे सत्र में आ गए, क्योंकि निवेशकों ने उन तकनीकी नामों को चुनने की मांग की, जो इस सप्ताह की फेडरल रिजर्व की बैठक से पहले अंतिम दिनों में पस्त हो गए हैं।

अमेरिकी केंद्रीय बैंक नीति निर्माताओं की एक बैठक में व्यापक रूप से ब्याज दरों में आधा प्रतिशत की वृद्धि की उम्मीद है, इस सप्ताह के कदम से मुद्रास्फीति का मुकाबला करने के लिए तेज दर वृद्धि की अवधि शुरू होने की उम्मीद है।

बैठक में तनाव अमेरिकी शेयरों के अस्थिर सत्र में परिलक्षित हुआ। दिन के दौरान, एसएंडपी 500 मई 2021 के बाद से अपने सबसे निचले स्तर पर गिर गया, और नैस्डैक ने नवंबर 2020 में आखिरी बार देखे गए स्तर को छुआ।

Reuters.com पर मुफ्त असीमित एक्सेस पाने के लिए अभी पंजीकरण करें

इसे यूएस ट्रेजरी बॉन्ड मार्केट में भी देखा गया, जहां 10 साल का बेंचमार्क तीन साल से अधिक समय में पहली बार 3% को पार कर गया।

अपेक्षित ब्याज दर में वृद्धि की तैयारी के अलावा, व्यापारी “मात्रात्मक कसने” भी शुरू करना चाह रहे थे, क्योंकि केंद्रीय बैंक ने महामारी के दौरान अर्थव्यवस्था का समर्थन करने के लिए बांड खरीदने के बाद अपनी बैलेंस शीट में कटौती की। अधिक पढ़ें

उच्च वृद्धि वाले शेयरों, जैसे कि प्रौद्योगिकी कंपनियों, को इस साल कड़ी चोट लगी है क्योंकि व्यापारी इस माहौल के अनुकूल हैं, हाल के दिनों में बड़ी कंपनियों की निराशाजनक कमाई की रिपोर्ट के कारण घाटे में वृद्धि हुई है।

हालांकि, फेसबुक मेटा प्लेटफॉर्म इंक (एफबी.ओ) पिछले महीने 9.8% गिरने के बाद उछला, जबकि Microsoft Corp. (एमएसएफटी.ओ) और एनवीडिया इंक (एनवीडीए.ओ) अप्रैल में तेज गिरावट के बाद लाभ।

Amazon.com इंक (एएमजेडएनओ) कमजोर तिमाही रिपोर्ट के बाद शुक्रवार को यह 14% की गिरावट के साथ सोमवार को गिर गया।

सेब कंपनी (एएपीएल.ओ) यह गिर गया क्योंकि iPhone निर्माता को संभावित रूप से भारी जुर्माना का सामना करना पड़ा, जब यूरोपीय संघ के एंटीट्रस्ट नियामकों ने इसे मोबाइल वॉलेट में उपयोग की जाने वाली तकनीक तक प्रतियोगियों की पहुंच को प्रतिबंधित करने का आरोप लगाया। अधिक पढ़ें

यह एक प्रतीक्षारत खेल है। देखते हैं कि फेड क्या कहता है, अगले सप्ताह के अंत में मुद्रास्फीति के आंकड़े क्या दिखते हैं और इस सप्ताह हमारे पास बहुत सारी कमाई (रिपोर्ट) है, “ब्राइट ट्रेडिंग एलएलसी के एक व्यापारी डेनिस डिक ने कहा।

“यह एक कठिन बाजार रहा है और भावना एक ऐसे बिंदु पर पहुंच गई है जहां बहुत से लोगों ने इस बाजार को खारिज कर दिया है। मैं यह नहीं कह रहा हूं कि नीचे है, लेकिन शायद यह उस पैसे को डंप करने और उस पैसे में से कुछ को वापस लाने का समय है। “

प्रारंभिक आंकड़ों के अनुसार, एस एंड पी 500 . सूचकांक (.एसपीएक्स) यह 23.88 अंक या 0.58% बढ़कर 4,155.60 अंक पर बंद हुआ, जबकि नैस्डैक कंपोजिट इंडेक्स (उन्नीसवां) यह 200.48 अंक या 1.63% बढ़कर 12,535.12 अंक पर पहुंच गया। डाउ जोन्स औद्योगिक औसत (.डीजेआई) यह 89.70 अंक या 0.27% बढ़कर 33,066.91 अंक पर पहुंच गया।

सेंट्रल 11 सेक्टर्स स्टैंडर्ड एंड पूअर्स, रियल एस्टेट इंडेक्स (.एसपीएलआरसीआर) यह सबसे बड़ा हारने वाला था।

फाइजर इंक (पीएफई.एन) एक बड़े परीक्षण के बाद यह गिर गया कि COVID-19 के लिए मौखिक एंटीवायरल उपचार उन लोगों में कोरोनावायरस संक्रमण को रोकने में प्रभावी नहीं था जो किसी ऐसे व्यक्ति के साथ रहते हैं जिसके पास वायरस है। अधिक पढ़ें

सक्रियता बर्फ़ीला तूफ़ान (एटीवीआई.ओ) वॉरेन बफेट के बर्कशायर हैथवे इंक के कहने के बाद कूद गए (बीआरकेए.एन) इसने “कॉल ऑफ़ ड्यूटी” गेम निर्माता में 9.5% हिस्सेदारी हासिल कर ली। अधिक पढ़ें

स्पिरिट एयरलाइंस (सहेजें। एन) कम लागत वाली एयरलाइन द्वारा JetBlue Airways Corp को खारिज किए जाने के बाद अस्वीकृत (जेबीएलयू.ओ) 33 डॉलर प्रति शेयर की अधिग्रहण बोली, यह कहते हुए कि सरकारी नियामकों से अनुमोदन प्राप्त करने की बहुत कम संभावना है। अधिक पढ़ें

तुलनात्मक रूप से, JetBlue स्टॉक उच्च स्तर पर समाप्त हुआ, दोपहर की अस्थिरता की अवधि के दौरान खोई हुई जमीन को फिर से हासिल करना, जिसने प्रारंभिक लाभ को मिटा दिया।

Reuters.com पर मुफ्त असीमित एक्सेस पाने के लिए अभी पंजीकरण करें

(कवरिंग) न्यूयॉर्क में डेविड फ्रेंच और बेंगलुरु में देविक जैन द्वारा संपादन शोनक दासगुप्ता और मैथ्यू लुईस द्वारा

रेटिंग: 4.20
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 105
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *