भारत में विदेशी मुद्रा व्यापार के लिए रणनीतियाँ

बिटकॉइन भारत में वैध है या नहीं?

बिटकॉइन भारत में वैध है या नहीं?
PM Narendra Modi (Photo: PTI)

भारत में बिटकॉइन का भविस्य क्या है 2022भारत में बिटकॉइन का भविस्य क्या है

आज के समय में क्रिप्टो कॉइन और क्रिप्टो करेंसी की लोकप्रियता बढ़ती जा रही है। भारत में भी क्रिप्टो करेंसी की बातें काफी चर्चा में रहती है। आज के समय में भारत में क्रिप्टो करेंसी को पूरी तरह से वैध कर दिया गया है। सरकार के द्वारा साल 2021 में क्रिप्टो करेंसी को पूरी तरह से वैध करते हुए उस पर 30% टैक्स लगाने की बात रखी। जिसके पश्चात भारत में भी क्रिप्टो करेंसी और बिटकॉइन का भविष्य पूरी तरह से सुरक्षित हो गया है।

हालांकि इससे पहले भी भारत में क्रिप्टो करेंसी का प्रयोग लोग लेनदेन के रूप में करते थे। लोग क्रिप्टो करेंसी में पैसे भी लगा रहे थे और क्रिप्टो कॉइन को बेचते भी थे। लेकिन वह भारत सरकार के खिलाफ जाकर बिटकॉइन भारत में वैध है या नहीं? यह काम कर रहे थे। लेकिन सरकार के द्वारा आए गए आदेश के अनुसार बिटकॉइन और क्रिप्टो करेंसी के भविष्य को भारत में सुरक्षित करते हुए मान्यता दे दी है। आज के इस आर्टिकल में हम आपको भारत में बिटकॉइन का क्या भविष्य है इसके बारे में जानकारी देने का प्रयास करेंगे।

बिटकॉइन का नाम काफी ज्यादा लोकप्रिय हो गया है। भारत में ही नहीं विश्व भर में बिटकॉइन के बारे में हर व्यक्ति अच्छे से जानता है। ज्यादातर लोग बिटकॉइन को क्रिप्टो करेंसी के तौर पर भी जानते हैं। कई लोगों ने बिटकॉइन का सिर्फ नाम सुना है। बिटकॉइन प्रकार का क्रिप्टो कॉइन है।

साल 2009 में लांच हुआ था। साल 2008 में इसे सतोशी नाकामोतो के द्वारा बनाया गया और उसके पश्चात 2009 में इसे लांच किया गया। आज के समय में एक बिटकॉइन की कीमत करोड़ों रुपए में है। लेकिन जब यह 2008 और 2009 में लांच हुआ था। तब एक बिटकॉइन की कीमत लगभग ₹506 के आसपास ही थी।

उस समय लोगों के पास बिटकॉइन के बारे में जानकारी नहीं थी और लोगों को इस बारे में ज्यादा नॉलेज भी नहीं था। उसी वजह से लोगों ने इन्वेस्ट नहीं किया। साल 2015 तक पहुंचते-पहुंचते बिटकॉइन की कीमत 21000 गई और साल 2021 में एक बिटकॉइन की कीमत 55 लाख के आसपास पहुंच गई थी। जिन लोगों ने साल 2015 में भी इन्वेस्ट किया है। उन लोगों को इस बिटकॉइन ने साल 2021 में करोड़पति बना दिया है।

ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी क्या है

बिट कॉइन खरीदने व बेचने की प्रक्रिया ब्लॉकचेन पर आधारित है। अब ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी के बारे में बात करें तो ब्लॉक का अर्थ एक डब्बा होता है।

जब भी कोई नई इनफार्मेशन आती है। तो उस डब्बे में डाल दी जाती है और वह डब्बा जैसे ही भरता है। तो दूसरे डिब्बों से जोड़ दिया जाता है। इसी प्रकार से एक डब्बे से दूसरे डब्बे की चैन को ब्लॉकचेन कहा जाता है और इसी तकनीकी के आधार पर सभी क्रिप्टो करेंसी काम करती है।

भारत में बिटकॉइन का भविष्य

भारत में बिटकॉइन के भविष्य की हम बात करें तो भारत देश में सरकार के द्वारा बिटकॉइन को पूरी तरह से व्यक्त करते हुए 30% वर्चुअल संपत्ति पर टैक्स लगाने का जिक्र किया है। जिससे यह स्पष्ट होता है, कि भारत में अब क्रिप्टो करेंसी यानी कि बिटकॉइन किसी भी तरह से बैन नहीं है। हर व्यक्ति ग्रुप में अपना पैसा लगा सकता है। बिटकॉइन खरीद सकता है और भी कौन बेच सकता है।

अलग-अलग एक्सपर्ट्स के अनुसार भारत में बिटकॉइन के भविष्य को लेकर अलग-अलग बातें बताई जा रही है भारत में बिटकॉइन का भविष्य वर्तमान समय के अनुसार पूरी तरह से सुरक्षित है। बिटकॉइन भारत में वैध है या नहीं? हालांकि क्रिप्टो करेंसी में कीमत में उतार-चढ़ाव देखने को मिल रहा है और यह शेयर बाजार और क्रिप्टो करेंसी में जायज बात है, की कीमत में उतार-चढ़ाव तो होना ही है।

लेकिन भारत में क्रिप्टो बहुत ही ज्यादा सुरक्षित माना जाता है। भविष्य में भी यदि आपको अमीर बनना है। तो आपको बिटकॉइन में थोड़ा थोड़ा पैसा इन्वेस्ट करना शुरू कर देना चाहिए। बिटकॉइन भविष्य की एक सबसे लोकप्रिय साबित होगी।

वर्तमान में बिटकॉइन की कीमत में काफी गिरावट हुई है वर्तमान में बिटकॉइन की कीमत करीब 16 लाख के आसपास पहुंची है। लेकिन भविष्य में यही कीमत वापस 50 लाख के आसपास जाने वाली है। इसलिए आप इस बात को और करते हुए और इस बारे में ज्यादा रिसर्च करके वर्तमान में बिटकॉइन खरीद सकते हैं। वर्तमान में बिल्कुल खरीदना आती है ज्यादा नुकसान तो नहीं होगा। क्योंकि हो सकता है कि थोड़ा कीमत और जीत जाए लेकिन एक दिन तो वापस कीमत 50 लाख के पास जानी ही है।

भारत में बिटकॉइन के भविष्य की बात करें तो भारत में बिटकॉइन का 2022 का भविष्य लोगों को देख चुका है। 2022 जनवरी के आसपास बिटकॉइन की कीमत 50 लाख के आसपास थी और 2025 तक एक बिटकॉइन की कीमत भारतीय रुपए में तीन करोड रुपए बताई जा रही है।

एक्सपर्ट्स के अनुसार बताई गई इस कीमत को सुनते ही लाखों लोग क्रिप्टो कॉइन जाने की बिटकॉइन खरीदने के लिए उतावले हो रहे हैं। हालांकि बिटकॉइन में नुकसान होने की भी संभावना होती है। लेकिन आप अपने व्यस्त के आधार पर खरीद सकते हैं या 90% आपको फायदा होने का चांस है क्योंकि अब बिटकॉइन की रेट काफी डाउन चल रही है ऐसे में यदि आप खरीदते हैं

2025 में भारत में बिटकॉइन का भविष्य

भविष्य में 2025 तक एक्सपर्ट के अनुसार तीन करोड़ 3 बिटकॉइन की कीमत हो सकती है। आप एक बिट कॉइन खरीदने पर भी करोड़पति बन जाएंगे। छोटा पैसा निवेश करके भी व्यक्ति यहां अच्छा फायदा हासिल कर सकता है।

छोटा पैसा निवेश करने वाला व्यक्ति को भी बिटकॉइन खरीदने के लिए जरूर प्रयास करना चाहिए। बिटकॉइन भारत का एक उभरता हुआ भविष्य माना जाता है और आज के युवाओं में बिटकॉइन को लेकर काफी दिलचस्पी भी है। क्योंकि यह एक ऐसा तरीका है जो आपको कम समय में करोड़पति बना सकता है। ऐसे मेहनत करके या मजदूरी करके आप करोड़पति नहीं बन सकते हैं।

लेकिन यदि सही समय रहते आप बिटकॉइन में पैसा निवेश करते हैं, तो आप करोड़पति का विषय बन सकते हैं। 2025 तक एक बिटकॉइन की कीमत 3 करोड रुपए के बराबर हो सकती है। यह अनुमान कई लोगों के द्वारा लगाया जा चुका है।

क्या बिटकॉइन भारत में लीगल है

साल 2008 में बिटकॉइन का निर्माण हुआ 2009 में बिटकॉइन लांच हुआ। लेकिन साल 2021 तक भारत में बिटकॉइन पूरी तरह से प्रतिबंधित था। भारत में बिटकॉइन खरीदने वाले लोगों के खिलाफ कार्रवाई की जा रही थी। लेकिन साल 2021 के अंत में जाते-जाते सरकार के द्वारा 30% वर्चुअल संपत्ति पर टैक्स लगाकर भारत में बिटकॉइन को लीगल कर दिया गया है। आज के समय में भारत में बिटकॉइन खरीदना लीगल है। आप खरीद सकते हैं भारत में बैठकर खरीदना सुरक्षित है।

सरकार के द्वारा भारत में बिटकॉइन को लीगल करने के पश्चात भारत में बिटकॉइन के भविष्य के बारे में भी कई अलग-अलग प्रकार के अनुमान लगाए जा रहे हैं। भारत में बिटकॉइन लीगल हो जाने के बाद में भारत का भविष्य बिटकॉइन पर ही टिका हुआ नजर आ रहा है। क्योंकि युवाओं की दिलचस्पी बिटकॉइन के प्रति बढ़ती जा रही है और बिल्कुल खरीदना वर्तमान में लीगल है। ऐसा कह सकते हैं कि भारत में यदि 2025 तक देखा जाए तो बिटकॉइन पूरी तरह से सुरक्षित करेंसी और टॉप लेवल की बन जाएगी।

देशभर में बिटकॉइन को लेकर कई सवाल जवाब किए जाते हैं। देश में बिटकॉइन क्या है। बिटकॉइन की क्या लोकप्रियता है, किस प्रकार से व्यक्ति बिटकॉइन को खरीद सकता है। इस बारे में हर कोई व्यक्ति जानना चाहता है। लेकिन सबसे मुख्य बात यह जानना चाहते हैं कि भारत में बिटकॉइन का क्या भविष्य है, तो आज बिटकॉइन भारत में वैध है या नहीं? के इस आर्टिकल में हमने आपको भारत में बिटकॉइन का क्या भविष्य है।

इस बारे में डिटेल में जानकारी दी है। हमें उम्मीद है, कि हमारे द्वारा दी गई जानकारी आपको पसंद आई होगी। यदि किसी व्यक्ति को हमारे इस आर्टिकल से जुड़ा हुआ कोई भी सवाल है, तो वह हमें कमेंट के माध्यम से बता सकता है।

पीएम नरेंद्र मोदी का ट्विटर अकाउंट हैक होने के बाद पीएमओ ने जारी किया बयान, कहा- ट्वीट इग्नोर करें

हैकर्स ने प्रधानमंत्री के ट्विटर अकाउंट को हैक करके उससे बिटक्वाइन संबंधित कुछ ट्वीट किया. हालांकि इसका तुरंत पता चलते ही इस पर एक्सन लिया गया और अब पीएम मोदी का अकाउंट बिल्कुल सुरक्षित है. इस बात की जानकारी प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से रविवार सुबह दी गई. PM मोदी के पर्सनल अकाउंट से रविवार रात करीब 2 बजकर 11 मिनट और 2 बजकर 15 मिनट पर बिटकॉइन संबंधित दो ट्वीट किए गए.

PM Narendra Modi (Photo: PTI)

PM Narendra Modi (Photo: PTI)

gnttv.com

  • नई दिल्ली,
  • 12 दिसंबर 2021,
  • (Updated 12 दिसंबर 2021, 12:14 PM IST)

बिटकॉइन को बिटकॉइन भारत में वैध है या नहीं? लेकर किया गया ट्वीट

PMO ने ट्वीट कर इग्नोर करने को कहा

रविवार रात पीएम मोदी के ट्विटर अकाउंट के साथ कुछ छेड़छाड़ की गई. हैकर्स ने प्रधानमंत्री के ट्विटर अकाउंट को हैक करके उससे बिटक्वाइन संबंधित कुछ ट्वीट किया. हालांकि इसका तुरंत पता चलते ही इस पर एक्सन लिया गया और अब पीएम मोदी का अकाउंट बिल्कुल सुरक्षित है. इस बात की जानकारी प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से रविवार सुबह दी गई.

बिटकॉइन को लेकर किया गया ट्वीट
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पर्सनल अकाउंट से रविवार रात करीब 2 बजकर 11 मिनट और 2 बजकर 15 मिनट पर बिटकॉइन संबंधित दो ट्वीट किए गए. इसमें कहा गया कि भारत ने अब बिटकॉइन को वैध टेंडर के रूप में स्वीकार कर लिया है. सरकार आधिकारिक रूप से 500 बिटकॉइन खरीदेगी और उसे देश के नागरिकों में बांटेगी. इसके साथ ही ट्वीट में एक स्कैम लिंक भी लगा हुआ था. हालंकि इसका पता लगते ही पीएम के ट्विटर हैंडल से ट्वीट को डिलीट कर दिया गया लेकिन तब तक सोशल मीडिया पर इसका स्क्रीनशॉट वायरल हो चुका था. ट्विटर पर यह #hacked करके ट्रेंड कर रहा है.

जांच में जुटी टीम
बता दें कि माइक्रो ब्लागिंग साइट पर प्रधानमंत्री मोदी के 73 मिलियन फालोअर्स हैं. इसकी जानकारी जैसे ही ट्विटर को मिली उन्होंने अकाउंट को सिक्योर करने के लिए जरूरी कदम उठाए. ट्वविटर के प्रवक्ता ने कहा कि उनके पास प्रधानमंत्री कार्यालय बिटकॉइन भारत में वैध है या नहीं? के साथ हर समय संवाद रहता है इसलिए हमें जैसे ही इस हैकिंग का पता लगा, हमारी टीम ने तुरंत इस सुरक्षित करने के लिए आवश्यक कदम उठाए.

PMO ने जारी किया बयान
इस गड़बड़ी के घंटे भर बाद 3 बजकर 18 मिनट पर पीएमओ ने ट्वीट कर बताया कि पीएम नरेंद्र मोदी के ट्विटर हैंडल से छेड़छाड़ हुई थी, जिसे अब ठीक कर लिया गया है. PMO ने लिखा, "पीएम नरेंद्र मोदी के ट्विटर हैंडल से कुछ समय के लिए छेड़छाड़ की गई थी. इस मामले को तुरंत ट्विटर के पास उठाया गया है और अकाउंट को अब सुरक्षित कर लिया गया है. एक थोड़े समय के लिए अकाउंट के साथ छेड़छाड़ की गई थी.

The Twitter handle of PM @narendramodi was very briefly compromised. The matter was escalated to Twitter and the account has been immediately secured.

In the brief period that the account was compromised, any Tweet shared must be ignored.

— PMO India (@PMOIndia) December 11, 2021

बता दें कि इससे पहले सितंबर 2020 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की व्यक्तिगत वेबसाइट narendramodi.in को हैक कर लिया गया था और फालोवर्स से राहत कोष में क्रिप्टोकरेंसी डोनेट करके को कहा गया था.

Bitcoin को लेकर वित्त सचिव का बड़ा बयान- भारत में कभी वैध नहीं होगी क्रिप्टोकरेंसी

Cryptocurrency News: देश के वित्त सचिव टीवी सोमनाथन ने क्रिप्टोकरेंसी को लेकर बड़ा बयान देते हुए कहा कि भारत में बिटकॉइन भारत में वैध है या नहीं? यह करेंसी ना कभी वैध थी, ना भविष्य में कभी वैध हो सकती है। इसमें निवेश करने से लोगों को बचना चाहिए।

Bishwajeet Kumar

Bitcoin को लेकर वित्त सचिव का बड़ा बयान- भारत में कभी वैध नहीं होगी क्रिप्टोकरेंसी

वित्त सचिव टीवी सोमनाथन (तस्वीर साभार: सोशल मीडिया)

Cryptocurrency News: भारत में क्रिप्टोकरेंसी (cryptocurrency) को लेकर बड़े दिन से इसमें निवेश करने वाले निवेशकों को असमंजस रहा है। असमंजस इस बात का कि क्या भारतीय कानून में इसे वैध माना जाएगा। बीते दिनों से लोग अनुमान लगा रहे थे कि वित्तीय वर्ष 2022-23 के बजट (Budget 2022) में वित्त मंत्री क्रिप्टोकरेंसी से जुड़े कुछ अहम फैसले ले सकती है। हालांकि बजट में क्रिप्टोकरेंसी को लेकर कोई अच्छी खबर तो नहीं आई मगर इस क्षेत्र में निवेश कर रहे लोगों के लिए सरकार ने 30% कर लगाने की घोषणा जरूर कर दिया। जिसके पास इसके निवेशक यह अनुमान लगाने लगे थे कि सरकार ने इसे भारत में मंजूरी दे दी है।

कल वित्तीय बजट पेश हो जाने के बाद आज बुधवार को देश के वित्त सचिव टीवी सोमनाथन (TV Somanathan) ने क्रिप्टोकरेंसी को लेकर बड़ा बयान दिया है। क्रिप्टोकरेंसी इथीरियम (Ethereum), बिटकॉइन (Bitcoin) और नॉन फिजिकल टोकन (Non Physical Token - NFT) को लेकर बड़ा बयान देते हुए कहा कि भारत में ये करेंसी कभी भी लीगल टेंडर या वैध मुद्रा नहीं घोषित किया जा सकता। सचिव ने आगे कहा क्रिप्टो ऐसी संपत्ति होती है जिसकी कीमत दो लोगों के बीच ही निर्धारित की जाती है। क्रिप्टो खरीदें या सोना खरीदें सरकार इनकी कोई गारंटी नहीं तय करती है।

क्रिप्टो में निवेश करने से बचें

क्रिप्टो करेंसी को लेकर वित्त सचिव टीवी सोमनाथन ने कहा कि लोगों को क्रिप्टो में निवेश करने से बचना चाहिए। क्योंकि इसमें किया गया निवेश आपके लिए कितना लाभप्रद होगा इसकी कोई गारंटी नहीं होती। साथ ही वित्त सचिव ने कहा इस तरह के निवेशों में अगर आपको किसी प्रकार का घाटा होता है तो उसकी जवाबदेही कभी भी सरकार नहीं लेगी। हालांकि सरकार जो अपनी नई डिजिटल करेंसी लाने वाली है उसमें निवेश करना पूर्ण रूप से सुरक्षित रहेगा।

बता दें कल बजट पेश करते हुए वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) ने यह ऐलान किया कि भारत सरकार रिजर्व बैंक द्वारा अपना नया डिजिटल करेंसी या डिजिटल रूपी जारी करेगी। इस डिजिटल करेंसी को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी कहा था की डिजिटल रूपी पूरी तरह से सुरक्षित रहेगा। फिलहाल माना जा रहा कि 1 अप्रैल को इस डिजिटल करेंसी की लॉन्चिंग हो सकती है।

इन देशों ने लगा रखी है बिटकॉइन यूजर्स पर पाबंदी

इन देशों ने लगा रखी है बिटकॉइन यूजर्स पर पाबंदी

दुनिया की सबसे लोकप्रिय क्रिप्टोकरेंसी बिटकॉइन (bitcoin) का चलन पिछले कुछ वर्षों में काफी बढ़ गया है. Allied Market Research की एक रिपोर्ट के मुताबक, ग्लोबल क्रिप्टोकरेंसी मार्केट साइज (hlobal cryptocurrency market size) 2020 में 1.49 बिलियन डॉलर था. 2030 तक इसके 4.94 बिलियन डॉलर तक पहुंचने का अनुमान है. यह 2021 से 2030 तक 12.8% की CAGR (Compound Annual Growth Rate) से बढ़ रहा है.

दुनियाभर के अलग-अलग देशों में क्रिप्टोकरेंसी सरकार या मौद्रिक अधिकारियों से लेनदेन के माध्यम के रूप में अपना अधिकार प्राप्त करने की कोशिश कर रही है. लेकिन, अलग-अलग वित्तीय क्षेत्राधिकारों में इसकी कानूनी रुपरेखा तैयार करना मुश्किल है, क्योंकि इस पर किसी भी बैंक, या सरकार का कंट्रोल नहीं है.

इसलिए कई देशों ने कई बार क्रिप्टोकरेंसी पर प्रतिबंध लगाया है. कुछ देशों ने बिटकॉइन अकाउंट होल्डर्स को इसके एक्सचेंज को लेकर चेतावनी दी हुई है.

ऐसे में, आइये एक नज़र डालते हैं उन देशों पर जिन्होंने बिटकॉइन यूजर्स को बैन कर रखा है.

बोलीविया: देश के केंद्रीय बैंक ने बिटकॉइन सहित क्रिप्टोकरेंसी के उपयोग पर प्रतिबंध लगा दिया है.

चीन: चीन ने क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंजों पर प्रतिबंध लगा दिया है और बैंकों और फाइनेंशियल इंस्टीट्यूट्स को बिटकॉइन में ट्रेड करने से भी प्रतिबंधित कर दिया है.

कोलंबिया: इस देश में बिटकॉइन में इन्वेस्ट करने और इसे इस्तेमाल करने की अनुमति नहीं है.

इक्वाडोर: 2014 में इक्वाडोर की नेशनल असेंबली ने बिटकॉइन और दूसरी क्रिप्टोकरेंसी पर प्रतिबंध लगा दिया, लेकिन अपने "इलेक्ट्रॉनिक मनी" के लिए दिशानिर्देश जारी किए.

रूस: हालांकि क्रिप्टोकरेंसी के खिलाफ कोई मौजूदा कानून नहीं है, रूसी सरकार ने चेतावनी दी है कि "वर्चुअल करेंसी" का इस्तेमाल टेरर फंडिंग (terror funding) और मनी लॉन्ड्रिंग (money laundring) के लिए किया जा सकता है.

वियतनाम: इस देश की सरकार और स्टेट बैंक बिटकॉइन को इन्वेस्टमेंट के तौर पर रेग्यूलेट नहीं करते हैं, लेकिन वे बिटकॉइन को एक वैध पेमेंट मैथड के रूप में भी स्वीकार नहीं करते हैं.

अब अगर हम बात करें अपने देश की तो, क्रिप्टोकरेंसी को लेकर भारत का रुख हमेशा से ही अधिक उदार नहीं रहा है. भारत में सुप्रीम कोर्ट ने अप्रैल, 2018 में अपने एक फैसले में क्रिप्टोकरेंसी पर बैन लगाया था. फिर, 2 साल बाद, मार्च 2020 में एक निर्णायक फैसले में तीन-न्यायाधीशों वाली बेंच, जिसमें जस्टिस रोहिंटन नरीमन, बिटकॉइन भारत में वैध है या नहीं? अनिरुद्ध बोस और वी रामासुब्रमण्यन शामिल थे, ने RBI के आदेश को "असंवैधानिक" करार देते हुए पहले के आदेश को खारिज कर दिया, और साथ ही बैन भी हटा दिया.

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के गवर्नर शक्तिकांत दास बार-बार इसके लेकर आगाह करते रहे हैं. RBI गवर्नर ने मई के आखरी हफ्ते में कहा था, "यह कुछ ऐसा है जिसकी कोई वैल्यू नहीं है. आप इसे कैसे रेग्यूलेट करते हैं, इस पर बड़े सवाल हैं. हमारा रुख बिल्कुल साफ है, यह भारत की मौद्रिक, वित्तीय और बिटकॉइन भारत में वैध है या नहीं? वृहद आर्थिक स्थिरता को गंभीर रूप से कमजोर करेगा."

RBI गवर्नर शक्तिकांत दास ने क्रिप्टोकरेंसीज को लेकर इससे पहले बीते साल नवंबर में भी चेतावनी दी थी. उन्होंने कहा कि क्रिप्टोकरेंसी ने RBI के लिए 'गंभीर चिंता' पैदा की है. शक्तिकांत दास ने तब ये भी कहा था कि क्रिप्टोकरेंसी में निवेशकों की संख्या को बढ़ा-चढ़ा कर बताया जा रहा है.

Budget 2022 में केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने घोषणा की कि वर्चुअल असेट्स (क्रिप्टोकरेंसी आदि) पर 30 फीसदी टैक्स लगाया गया है. इसके अलावा वर्चुअल असेट्स के ट्रांसफर पर 1 फीसदी TDS भी लगेगा.

रिजर्व बैंक की चिंता के बावजूद देश में क्रिप्टोकरेंसी को लेकर लोगों में क्रेज बढ़ता जा रहा है. क्रिप्टोकरेंसी में निवेश बढ़ने से बीते साल के अगस्त महीने में CoinDCX यूनिकॉर्न बन गया था. और इसके बाद अक्टूबर में CoinSwitch Kuber ने यूनिकॉर्न क्लब में एंट्री मारी थी.

रेटिंग: 4.88
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 196
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *