भारत में विदेशी मुद्रा व्यापार के लिए रणनीतियाँ

डेब्ट फंड कितने प्रकार के होते हैं

डेब्ट फंड कितने प्रकार के होते हैं

Debt Fund- डेट फंड

क्या होता है डेट फंड?
Debt Fund: डेट फंड एक निवेश पूल, जैसेकि म्युचुअल फंड या एक्सचेंज-ट्रेडेड फंड होता है जिसके मूलभूत संग्रह में मुख्य रूप से फिक्स्ड इनकम निवेश होते हैं। डेट फंड अल्प अवधि या दीर्घ अवधि बॉन्डों, सिक्योरिटाइज्ड उत्पादों, मनी मार्केट इंस्ट्रूमेंट्स या फ्लोटिंग रेट डेट में निवेश कर सकता है। औसतन डेट फंडों पर फी रेशियो इक्विटी फंडों की तुलना में कम होते हैं क्योंकि कुल प्रबंधन लागतें अंदरूनी रूप से कम होती हैं। अक्सर क्रेडिट फंड या फिक्स्ड इनकम फंडों के रूप में संदर्भित डेट फंड, फिक्स्ड इनकम एसेट वर्ग के तहत आते हैं। पारंपरिक रूप से इन कम जोखिम वाले व्हीकल्स की खोज वैसे निवेशक करते हैं जो कैपिटल को संरक्षित करना चाहते हैं या निम्न जोखिम इनकम डिस्ट्रीब्यूशन अर्जित करना चाहते हैं। डेट फंड ऑप्शंस में इच्छुक निवेशक निष्क्रिय और सक्रिय उत्पादों के बीच चयन कर सकते हैं।

डेट फंड जोखिम
डेट फंड विभिन्न प्रकार के जोखिमों से संबंधित सिक्योरिटीज के एक व्यापक क्षेत्र में निवेश कर सकते हैं। व्यवसायों द्वारा उनकी पूंजी संरचना के एक हिस्से के रूप में जारी कॉरपोरेट डेट के रिस्क प्रोफाइल को साधारणतया कंपनी की क्रेडिट रेटिंग द्वारा वर्गीकृत किया जाता है। इन्वेस्टमेंट ग्रेड डेट स्थिर आउटलुक और उच्च क्रेडिट क्वालिटी वाली कंपनियों द्वारा जारी किया जाता है। हाई-यील्ड डेट जो मुख्य रूप से संभावित उभरती ग्रोथ संभावनाओं वाली कंपनियों द्वारा जारी किया जाता है, उच्चतर संभावित जोखिम के साथ अधिक रिटर्न देता है। अन्य डेट वर्गों में डेवलप्ड मार्केट डेट और इमर्जिंग मार्केट डेट शामिल हैं। निवेशक सक्रिय एवं निष्क्रिय दोनों ही उत्पादों में निम्न-जोखिम डेट फंड आप्शंस के व्यापक रेंज से चयन कर सकते हैं।

ग्लोबल डेट फंड
कई देश सरकार की वित्तीय नीतियों को समर्थन देने के लिए डेट निवेश की पेशकश करते हैं। सरकारी डेट फंडों के जोखिम और रिटर्न में अंतर होता है जो इस बात पर निर्भर है कि उस देश का राजनीतिक और आर्थिक वातावरण किस प्रकार का है। इक्विटीज की ही तरह ग्लोबल डेट फंड को भी विकसित और उभरते मार्केट इंडेक्स द्वारा अलग अलग किया जा सकता है।

डेब्ट फंड्स क्या है?

डेब्ट फंड ऐसा म्यूच्यूअल फंड स्कीम है जो निश्चित आय उपकरणों में निवेश करता है, जैसे कॉर्पोरेट और सरकारी बांड, कॉर्पोरेट डेब्ट सिक्योरिटीज और मुद्रा बाज़ार उपकरण आदि जो पूँजी में मूल्य वृद्धि प्रस्तावित करते हैं|

डेब्ट फंड्स, आय फंड और बांड फंड के नाम से भी जाने जाते हैं|

डेब्ट फंड्स में निवेश के कुछ प्रमुख लाभ उसका कम लागत वाला स्वरुप, अपेक्षाकृत स्थिर मुनाफे, अपेक्षाकृत उच्च तरलता और वाजिब सुरक्षा हैं|

डेब्ट फंड्स उन निवेशकों के लिए आदर्श हैं जो नियमित आय का लक्ष्य लिए चलते हैं और जोखिम नहीं उठाना चाहते| डेब्ट फंड्स चूंकि कम अस्थिर होते हैं, इक्विटी फंड्स की तुलना में कम जोखिम भी लिए होते हैं| अगर आप पारंपरिक नियत आय उत्पादों जैसे बैंक जमा में बचत करते आये हैं, और आप स्थिर मुनाफे की तलाश में है जो कम अस्थिरता लिये है, डेब्ट म्यूच्यूअल फंड आपके लिए एक बढ़िया विकल्प हो सकता है, इसलिए कि ये आपको आपके वित्तीय लक्ष्यों को प्रभावकारी कर कौशल के साथ हासिल करने में मदद करते हैं जिससे आप बेहतर लाभ प्राप्त कर पाते हैं|

संचालन के तरीकों की बात करें तो डेब्ट फंड्स दूसरे म्यूच्यूअल फंड्स स्कीमों से अलग नहीं हैं| तथापि, पूँजी सुरक्षा की शर्तों पर, डेब्ट फंड्स का पलड़ा इक्विटी फंड्स से भारी रहता है|

डेब्ट फंड कितने प्रकार के होते हैं?

डेब्ट फंड कितने प्रकार के होते हैं?

जैसे बैंक में आप एक बचत खाता खोल सकते हैं, जहां आप अपनी जरूरत के अनुसार पैसे रख सकते हैं या निकाल सकते हैं।हालांकि यदि आप पैसों को कुछ समय के लिए उपयोग नहीं करने वाले हैं तो उनको यूं ही रखा रहने देने का कोई मतलब नहीं बनता है। ऐसी स्थिति में आप एक फिक्स्ड डिपॉजिट खोल सकते हैं - जहां पर पैसा किसी निश्चित अवधि के लिए बंद रहता है जिससे कि आपको ब्याज की अधिक दर कमाने का अवसर मिलता है। आप आवर्ती जमा को भी चुन सकते हैं, जिसमें आप नियत राशि को निर्धारित अवधि के लिए हर माह जमा करते रहते हैं। ये सभी उत्पाद विभिन्न जरूरतों में आपकी मदद करते हैं।

इसी तरह से म्यूचुअल फंड में भी, डेब्ट फंड श्रेणी के भी लिक्विड फंड, इनकम फंड, सरकारी प्रतिभूति और फिक्स्ड परिपक्वता योजनाओं जैसे अनेक विकल्प उपलब्ध हैं जो निवेशकों की विभिन्न जरूरतें पूरी करते हैं।

Debt क्या होता है? यह कितने प्रकार का होता है?

नमस्कार दोस्तो कैसे है आप लोग आशा करता हूं ठीक ही होंगे आप सभी तो स्वागत है आपका हमारी नई पोस्ट में तो आज हम आपको बताने वाले है की Debt क्या होता है? यह कितने प्रकार का होता है? कुछ लोगों ने यह नाम जरूर सुना होगा की, Debt fund क्या है, और इसके बारे में विस्तार से जानना भी चाहते होंगे की हिंदी में Debt fund क्या है, डेब्ट फंड कितने प्रकार के होते हैं, और Debt fund में कैसे निवेश करते हैं?

Debt फंड क्या है? What is Debt fund?

दोस्तो आपको जैसा की बता दे Debt का साधारण सा मतलब है Loan, जिस तरह से किसी को एक कार खरीदने के लिए बैंक से कर्ज लेने पर उसका ब्याज देना पड़ता है। ठीक उसी प्रकार से निवेशक Debt fund ke माध्यम से पैसा निवेश करके उस पर ब्याज प्राप्त करता है।

आपको बता दे Debt fund को ऋण फंड या कर्ज फंड भी कहा जाता है। Debt fund सरकारी उपक्रमों और कंपनियों की फिक्स इनकम सिक्यूरिटी में निवेश करते हैं। इसके अंतर्गत सरकारी सिक्यूरिटी, ट्रेजरी बिल, मनी मार्केट इंस्टुमेट और अन्य कई प्रकार की Debt सिक्यूरिटी सामिल है।

इसी प्रकार से कंपनी अपने बिज़नेस का विस्तार करने के लिए दीर्घ अवधि के कॉर्पोरेटिंग ब्रांड और डिपोजिट तथा कम अवधि के कॉमरिशियल पेपर जारी करके लोगों से निवेश आमंत्रित करती है।

सरकारी ट्रेजरी बिल और ब्रांड जारी करके लोगो से पैसे इकट्ठा करती है, जिसमे ट्रेजरी बिल्स , एक वर्ष तक कम अवधि के लिए और ब्रांड लंबे समय के निवेश के लिए जारी किए जाते हैं।

इसके अतिरिक्त वित्तीय संस्थान, सर्टिफिकेट ऑफ़ डिपॉजिट और परपेचुअल ब्रांड इशू करके लोगों से पैसे जुटाती है।

Debt fund के प्रकार : Types of Debt fund

जब हम Debt fund में निवेश की करते हैं, तो हमारे सामने दो बात सामने आती है, एक तो यह की हम कितने समय तक निवेश कर सकते हैं, और दूसरा यह की हम कितना जोखिम रखने की छमता रखते हैं।

निवेश की रिस्क और अवधि के आधार पर Debt fund डेब्ट फंड कितने प्रकार के होते हैं के प्रकार :

1. यदि आपको 1 से 90 दिन तक का निवेश करना है तो आपको लिक्विड या मनी मार्केट फंड में निवेश करना चाहिए। इसमें वार्षिक आधार पर 5% से 7% रिटर्न मिलने की संभावना रहती है इनमे ट्रेजरी बिल्स आदि आते हैं, और इसमें सबसे कम रिस्क भी रहता है।

2. और अगर आप 3 से 6 महीने तक का निवेश लक्ष्य रखते हैं तो इसके लिए अल्ट्रा शॉर्ट टर्म फंड सही रहे गा। इनमे ट्रैजरी बिल्स और कमर्शियल पेपर आते हैं, जिनकी मैच्योरिटी 6 महीने की होती है। इसमें वार्षिक तौर पर 6.5 से 7.5 percent रिटर्न मिलने की संभावना रहती है।

3. छह महीने से बारह महीने तक निवेश करने के लक्ष्य में लिए शॉर्ट टर्म फंड होते हैं, जिनके लगभग 7 से 8 percent तक वार्षिक लाभ मिल जाता है। यह फंड कमर्शियल पेपर, कमर्शियल डिपोजिट और कॉर्पोरेट ब्रांड्स में निवेश करते हैं।

4. अगर आप अपने पैसे को 3 वर्ष या उससे अधिक समय तक के लिए निवेश करते हैं, तो आपको लॉग टर्म फंड डेब्ट फंड कितने प्रकार के होते हैं में निवेश करना चाहिए , क्योंकि लॉन्ग टर्म फंड अपना निवेश कॉर्पोरेट ब्रांड्स, गवर्नमेंट सिक्यूरिटी और डीबेंचर में करती हैं। इसमें वार्षिक तौर पे 7.5 डेब्ट फंड कितने प्रकार के होते हैं से 8.5% तक रिटर्न मिल जाता है, और जोखिम भी कम रहता है।

5. अगर आप वार्षिक तौर पे 7.5 से 8.6 प्रतिशत तक रिटर्न पाना चाहते है तो आपको 1 वर्ष से लेकर 3 वर्ष की अवधि वाले मीडियम टर्म फंड्स में निवेश करना चाहिए।

नाम और उनके काम के आधार पर Debt फंड के प्रकार :

यह फंड जिनकी परिपक्ता अवधि अधिक समय तक होती है, Income Fund कहे जाते हैं। मैच्युरिटी अवधि लंबे समय की होने के कारण ये डायनामिक फंड्स की तुलना में ज्यादा स्थिर होते हैं। इनकम फंड भी ब्याज दर के अनुसार अलग अलग Debt सिक्योरिटीज में निवेश करते हैं।

जैसा की इसके नाम से ही स्पष्ट हो जाता है कि डायनामिक फंड वो होते हैं , जो बदलती हुई ब्याज दरों फंड्स का मेच्योरिटी समय ब्याज दर के अनुसार बदलता रहता है।

इस फंड को मुख्य रूप से मनी मार्केट फंड भी कहा जाता है। लिक्विड फंड का बड़ा हिस्सा शॉर्ट टर्म में निवेश किया जाता है। इन फंड में लिक्विडिटी ज्यादा मिलती है। बैंक के सेविंग अकाउंट की अपेक्षा लिक्विड फंड में निवेश करके आप अच्छा रिटर्न प्राप्त कर सकते हैं।

क्योंकि फिक्स्ड मेच्योरिटी फंड्स में समय निर्धारित होता है। और इसमें आपकी पूजी एक निश्चित समय के लिए लॉक कर दिया जाता है। यह समय कुछ महीनो या वर्षो का हो सकता है। यह फिक्स्ड डिपॉजिट की तरह होता है,जो टैक्स में छूट तो प्रदान करते हैं किंतु इसमें अच्छे रिटर्न की गारंटी नहीं होती है।

इस तरह के फंड्स अपना अधिकांस हिस्सा सरकारी सिक्योरिटीज में निवेश करते हैं, चूंकि सरकारें अधिकांस मामलों में डिफाल्टर नहीं होती है, इसलिए इसमें जोखिम माना जाता है।

गिल्ट फंड ऐसे निवेशकों के लिए एक आदर्श निवेश विकल्प होता है, जो अपनी पूंजी की सुरक्षा को लेकर चिन्तित रहते हो, और सुरक्षित विल्कप चाहते हैं।

सही Debt fund कैसे चुनें?

कुछ बातों का ध्यान रखकर आप अपने लिए सही Debt Fund का चुनाव कर सकत हैं जो कि इस प्रकार निम्लिखित हैं --

Debt Fund डेब्ट फंड कितने प्रकार के होते हैं में ऑनलाइन निवेश कैसे करें?

3. अकाउंट से संबंधित दस्तावेज़ जैसे PAN aur Aadhar आदि अपलोड करें, और इस तरह से आप निवेश के लिए तयार हो जातें हैं।

Debt क्या होता है? यह कितने प्रकार का होता है?

नमस्कार दोस्तो कैसे है आप लोग आशा करता हूं ठीक ही होंगे आप सभी तो स्वागत है आपका हमारी नई पोस्ट में तो आज हम आपको बताने वाले है की Debt क्या होता है? यह कितने प्रकार का होता है? कुछ लोगों ने यह नाम जरूर सुना होगा की, Debt fund क्या है, और इसके बारे में विस्तार से जानना भी चाहते होंगे की हिंदी में Debt fund क्या है, डेब्ट फंड कितने प्रकार के होते हैं, और Debt fund में कैसे निवेश करते हैं?

Debt फंड क्या है? What is Debt fund?

दोस्तो आपको जैसा की बता दे Debt का साधारण सा मतलब है Loan, जिस तरह से किसी को एक कार खरीदने के लिए बैंक से कर्ज लेने पर उसका ब्याज देना पड़ता है। ठीक उसी प्रकार से निवेशक Debt fund ke माध्यम से पैसा निवेश करके उस पर ब्याज प्राप्त करता है।

आपको बता दे Debt fund को ऋण फंड या कर्ज फंड भी कहा जाता है। Debt fund सरकारी उपक्रमों और कंपनियों की फिक्स इनकम सिक्यूरिटी में निवेश करते हैं। इसके अंतर्गत सरकारी सिक्यूरिटी, ट्रेजरी बिल, मनी मार्केट इंस्टुमेट और डेब्ट फंड कितने प्रकार के होते हैं अन्य कई प्रकार की Debt सिक्यूरिटी सामिल है।

इसी प्रकार से कंपनी अपने बिज़नेस का विस्तार करने के लिए दीर्घ अवधि के कॉर्पोरेटिंग ब्रांड और डिपोजिट तथा कम अवधि के कॉमरिशियल पेपर जारी करके लोगों से निवेश आमंत्रित करती है।

सरकारी ट्रेजरी बिल और ब्रांड जारी करके लोगो से पैसे इकट्ठा करती है, जिसमे ट्रेजरी बिल्स , एक वर्ष तक कम अवधि के लिए और ब्रांड लंबे समय के निवेश के लिए जारी किए जाते हैं।

इसके अतिरिक्त वित्तीय संस्थान, सर्टिफिकेट ऑफ़ डिपॉजिट और परपेचुअल ब्रांड इशू करके लोगों से पैसे जुटाती है।

Debt fund के प्रकार : Types of Debt fund

जब हम Debt fund में निवेश की करते हैं, तो हमारे सामने दो बात सामने आती है, एक तो यह की हम कितने समय तक निवेश कर सकते हैं, और दूसरा यह की हम कितना जोखिम रखने की छमता रखते हैं।

निवेश की रिस्क और अवधि के आधार पर Debt fund के प्रकार :

1. डेब्ट फंड कितने प्रकार के होते हैं यदि आपको 1 से 90 दिन तक का निवेश करना है तो आपको लिक्विड या मनी मार्केट फंड में निवेश करना चाहिए। इसमें वार्षिक आधार पर 5% से 7% रिटर्न मिलने की संभावना रहती है इनमे ट्रेजरी बिल्स आदि आते हैं, और इसमें सबसे कम रिस्क भी रहता है।

2. डेब्ट फंड कितने प्रकार के होते हैं और अगर आप 3 से 6 महीने तक का निवेश लक्ष्य रखते हैं तो इसके लिए अल्ट्रा शॉर्ट टर्म फंड सही रहे गा। इनमे ट्रैजरी बिल्स और कमर्शियल पेपर आते हैं, जिनकी मैच्योरिटी 6 महीने की होती है। इसमें वार्षिक तौर पर 6.5 से 7.5 percent रिटर्न मिलने की संभावना रहती है।

3. छह महीने से बारह महीने तक निवेश करने के लक्ष्य में लिए शॉर्ट टर्म फंड होते हैं, जिनके लगभग 7 से 8 percent तक वार्षिक लाभ मिल जाता है। यह फंड कमर्शियल पेपर, कमर्शियल डिपोजिट और कॉर्पोरेट ब्रांड्स में निवेश करते हैं।

4. अगर आप अपने पैसे को 3 वर्ष या उससे अधिक समय तक के लिए निवेश करते हैं, तो आपको लॉग टर्म फंड में निवेश करना चाहिए , क्योंकि लॉन्ग टर्म फंड अपना निवेश कॉर्पोरेट ब्रांड्स, गवर्नमेंट सिक्यूरिटी और डीबेंचर में करती हैं। इसमें वार्षिक तौर पे 7.5 से 8.5% तक रिटर्न मिल जाता है, और जोखिम भी कम रहता है।

5. अगर आप वार्षिक तौर पे 7.5 से 8.6 प्रतिशत तक रिटर्न पाना चाहते है तो आपको 1 वर्ष से लेकर 3 वर्ष की अवधि वाले मीडियम टर्म फंड्स में निवेश करना चाहिए।

नाम और उनके काम के आधार पर Debt फंड के प्रकार :

यह फंड जिनकी परिपक्ता अवधि अधिक समय तक होती है, Income Fund कहे जाते हैं। मैच्युरिटी अवधि लंबे समय की होने के कारण ये डायनामिक फंड्स की तुलना में ज्यादा स्थिर होते हैं। इनकम फंड भी ब्याज दर के अनुसार अलग अलग Debt सिक्योरिटीज में निवेश करते हैं।

जैसा की इसके नाम से ही स्पष्ट हो जाता है कि डायनामिक फंड वो होते हैं , जो बदलती हुई ब्याज दरों फंड्स का मेच्योरिटी समय ब्याज दर के अनुसार बदलता रहता है।

इस फंड को मुख्य रूप से मनी मार्केट फंड भी कहा जाता है। लिक्विड फंड का बड़ा हिस्सा शॉर्ट टर्म में निवेश किया जाता है। इन फंड में लिक्विडिटी ज्यादा मिलती है। बैंक के सेविंग अकाउंट की अपेक्षा लिक्विड फंड में निवेश करके आप अच्छा रिटर्न प्राप्त कर सकते हैं।

क्योंकि फिक्स्ड मेच्योरिटी फंड्स में समय निर्धारित होता है। और इसमें आपकी पूजी एक निश्चित समय के लिए लॉक कर दिया जाता है। यह समय कुछ महीनो या वर्षो का हो सकता है। यह फिक्स्ड डिपॉजिट की तरह होता है,जो टैक्स में छूट तो प्रदान करते हैं किंतु इसमें अच्छे रिटर्न की गारंटी नहीं होती है।

इस तरह के फंड्स अपना अधिकांस हिस्सा सरकारी सिक्योरिटीज में निवेश करते हैं, चूंकि सरकारें अधिकांस मामलों में डिफाल्टर नहीं होती है, इसलिए इसमें जोखिम माना जाता है।

गिल्ट फंड ऐसे निवेशकों के लिए एक आदर्श निवेश विकल्प होता है, जो अपनी पूंजी की सुरक्षा को लेकर चिन्तित रहते हो, और सुरक्षित विल्कप चाहते हैं।

सही Debt fund कैसे चुनें?

कुछ बातों का डेब्ट फंड कितने प्रकार के होते हैं ध्यान रखकर आप अपने लिए सही Debt Fund का चुनाव कर सकत हैं जो कि इस प्रकार निम्लिखित हैं --

Debt Fund में ऑनलाइन निवेश कैसे करें?

3. अकाउंट से संबंधित दस्तावेज़ जैसे PAN aur Aadhar आदि अपलोड करें, और इस तरह से आप निवेश के लिए तयार हो जातें हैं।

रेटिंग: 4.43
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 651
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *